Film Review : कंगना रनौत की सिमरन नहीं बन पायी ‘क्वीन’ (2 स्टार)

 

 मुख्य कलाकार: कंगना रनौत, सोहम शाह आदि

निर्देशक: हंसल मेहता

निर्माता: भूषण कुमार

कंगना रनौत की बेबाकी के बीच रिलीज हुई फिल्म ‘सिमरन’ से दर्शकों को उनकी फिल्म ‘क्वीन’ जैसी उम्मीद थी। वहीं फिल्म के प्रमोशन में भी कंगना ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। यहाँ तक की कंगना ने अपने निजी ज़िन्दगी के भूचाल लाने जैसे रहस्य भी उजागर कर दिए लेकिन इन सबके बावजूद कंगना और हंसल मेहता की यह फिल्म निराश करते हुए नज़र आई।

 

STORY :
फिल्म की स्टोरी प्रफुल्ल पटेल की है। जो कि अमेरिका निवासी है। सीधी-सादी दिखने वाली यह लड़की संयोग से लास वेगास के एक जुएखाने में पहुंचती है। जहाँ वह बहुत सारा पैसा जीत जाती है। मगर इसके बाद प्रफुल्ल को जुए खेलने की लत पड़ जाती है। वो लगातार हारती चली जाती है। ऐसे में एक प्राइवेट लैंडर उसे पैसे देता है और प्रफुल्ल वह पैसा भी नशे में हार जाती है। अब चक्कर शुरू होता है पैसे वसूली का। जब पैसे देने वाला गुंडा प्रफुल्ल की जान लेने पर उतारू हो जाता है। निम्न मध्यम वर्ग की प्रफुल्ल पच्चास हज़ार डॉलर की बड़ी रकम कहां से चुकाएगी? ऐसे में वो एफबीआई और सीआईए के जाल से घिरे अमेरिका में लूटपाट शुरु कर देती है और अंततः पकड़ी जाती है। यही कहानी है ‘सिमरन’ की।

ACTING :
हंसल मेहता की यह फ़िल्म अत्यंत साधारण फ़िल्म है। एक्टिंग के नाम पर बात करें तो कंगना को छोड़कर फ़िल्म में एक भी एक्टर ऐसा नहीं था जिसने कोई ख़ास कमाल किया। हालांकि, कंगना ने ज़बरदस्त परफॉर्मेंस किया है। बहरहाल, सोहम शाह को छोड़कर फ़िल्म में एक भी चेहरा ऐसा नहीं था जिसे आप जानते हों।

PERFORMANCE:
फ़िल्म की सिनेमेटोग्राफी तो शानदार है लेकिन, एडिटिंग बहुत ही कमजोर है। स्टोरी और स्क्रीनप्ले पर बिल्कुल भी मेहनत नहीं की गई है। फ़िल्म का संगीत साधारण है। कुल मिलाकर कंगना रनौत की ‘सिमरन’ एक कमजोर फ़िल्म है।

SR टाइम डॉट इन की रेटिंग: 5 में से 2 ( दो स्टार)

अवधि: 2 घंटे 4 मिनट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *