क्रिकेट को और रोमांचक बनाने के लिए नियमों में कई बदलाव: प्लेयर को ‘स्लेजिंग’ पड़ेगी भारी

 

 

आगामी 28 सितम्बर से क्रिकेट को रोमांचक बनाने के लिए कई बदलाव किये जायेंगे। यह जानकारी आईसीसी ने प्रेस रिलीज कर दीं। जारी प्रेस रिलीज के मुताबिक मैदान पर खिलाडियों की स्लेजिंग, अम्पायर पर दबाव बनाने के लिए ज्यादा अपील करना और मैदान के अंदर एक दूसरे खिलाडियों से भिड़ंने जैसी हरकतें बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

खिलाडियों की ऐसी हरकतों पर अंकुश लगाने के लिए एमसीसी ने कई बदलाव किये हैं। इस तरह के व्यवहार करने पर अब पेनल्टी के तौर पर पांच रन देने के अलावा पूरे मैच से सस्पेंड किया जा सकता है। ये सारे बदलाव क्रिकेट के रूल्स बनाने वाली संस्था मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने किए हैं।

यह होंगे नए नियम :

-यदि मैदान पर कोई खिलाड़ी ख़राब व्यव्हार करता है तो उसे कड़ी सजा मिलेगी। इस तरह के अपराध के चार लेवल तय किये गए है।

-लेवल-1 के मुताबिक अगर कोई खिलाड़ी ज्यादा अपील करता है और अंपायर के निर्णय पर विरोध जताता है तो सबसे पहले उसे चेतावनी दी जाएगी। इसके बावजूद अगर वह फिर भी ऐसा करता है तो पेनल्टी के रूप में विरोधी टीम को पांच रन मिलेंगे।

-लेवल-2 के मुताबिक कोई भी प्लेयर जानबूझकर दूसरे खिलाड़ी की तरफ गेंद फेंकता है यह जानबूझकर विपक्षी टीम के खिलाड़ी से भिड़ता है तो विपक्षी टीम को तुरंत 5 पेनल्टी रन मिल जाएंगे।

-लेवल-3 में के अनुसार यदि कोई प्लेयर अंपायर को डराने की कोशिश करता है या दूसरे खिलाड़ी, टीम ऑफिशियल या दर्शकों को धमकी देता है तो विपक्षी टीम को पेनल्टी के रूप में 5 रन मिलेंगे। साथ ही मैच के फॉर्मेट को देखते हुए उस खिलाड़ी को कुछ ओवरों के लिए मैदान से बाहर भेजा जा सकता है।

-जबकि लेवल-4 के अपराध के तहत बताया गया है कि अगर कोई खिलाड़ी, अंपायर को धमकी देता है या मैच के दौरान किसी भी तरह की हिंसा में शामिल होता है तो पेनल्टी के रूप में विपक्षी टीम को 5 रन मिलेंगे और उस प्लेयर को पूरे मैच के लिए बाहर बैठना पड़ेगा।

-कई बार यह आरोप लगाया गया था कि कुछ प्लेयर ज्यादा चौड़े बैट का इस्तेमाल कर रहे हैं। हालांकि अब एमसीसी ने बैट के आकार को लेकर भी कड़े और सख्त नियम बनाए हैं। अब बैट की चौड़ाई 108mm, गहराई 67mm और एजेस 40mm होगी। यह निर्णय बैट बनाने वाली कंपनी, फेडरेशनों, आईसीसी और कई संस्थाओं से बातचीत के बाद गेंद और बल्ले के बीच संतुलन लाने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

-रन आउट को लेकर भी बदलाव सामने आया है। पहले यह नियम के अनुसार जब गेंद स्टंप में लगती है तब बल्लेबाज का बैट या बॉडी, पॉपिंग क्रीज में ग्राउंडेड (जमीन पर) होनी चाहिए। यानी अगर बल्लेबाज पहले से पॉपिंग क्रीज में अपने बैट या बॉडी को ग्रॉउंडेड कर चुका है, लेकिन जब गेंद स्टंप पर लगी तब उसका बल्ला या बॉडी हवा में है तो उसे OUT दिया जाता था। ऐसा कुछ दिन पहले न्यूज़ीलैंड के बैट्समैन नील वैगनर के साथ भी हुआ था। दरअसल पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान वैगनर ने रन लेते हुए पॉपिंग क्रीज क्रॉस कर ली थी। उन्होंने अपना बल्ला भी जमीन पर रख लिया था, लेकिन लेकिन जब गेंद स्टंप में लगी तो उनका बल्ला हवा में था। इसकी वजह से उन्हें रन आउट दिया गया, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *